Saturday, 30 November 2013

न जी भर के देखा न कुछ बात की / Na jee bhar ke dekha na kuch baat ki

न जी भर के देखा न कुछ बात की
बड़ी आरज़ू थी मुलाक़ात की

कई साल से कुछ ख़बर ही नहीं
कहाँ दिन गुज़ारा कहाँ रात की

उजालों की परियाँ नहाने लगीं
नदी गुनगुनाई ख़यालात की

मैं चुप था तो चलती हवा रुक गई
ज़ुबाँ सब समझते हैं जज़्बात की

सितारों को शायद ख़बर ही नहीं
मुसाफ़िर ने जाने कहाँ रात की

मुक़द्दर मेरे चश्म-ए-पुर'अब का
बरसती हुई रात बरसात की

-

बशीर बद्र

Na jee bhar ke dekha na kuch baat ki
bari arzoo thi mulaqat ki

kai saal se kuch khabar nahi 
kahan din guzra kahan raat ki

ujaalon ki pariyan nahanay lagi
naddi gungunai khayalat ki

mein chup tha to chalti hawa ruk gai
zaba'n sab samajhte hai'n jazbat ki

sitaron ko shayad khabar hi nai
Musafir ne janay kaha raat ki

muqadar meri chash'm pur aa'b ka
barasti hoi raat barsaat ki
-
bashir badr